शनिवार, नवंबर 29, 2008

सलाम है!

सपूतों,
नाज है तुम पर पूरे वतन को
गुमान है हमें तुम्हारे हुंकार पर
दुश्मनों का दिल दहला देने वाली धमक पर
तुम्हारे तड़तड़ाते कदमों की ताल पर
ये देखकर सुकून से भर जाता है जी
जब एक लय में बढ़ता है तुम्हारा काफिला
एक लिबास, एक मिशन
न कोई जाति, न कोई मजहब
निशाने पर होता है देश का दुश्मन
वो दहशतगर्द जो इंसान की शक्ल में
कम नहीं होता किसी हैवान से।

औरों के पीछे लग जाए मेरी भी दुआ
तुम्हारे फौलादी सीने को
पथ्थर से तुम्हारे इरादे को
चीते सी तु्म्हारी फूर्ती को
दुश्मनों का हौसला तोड़ देने वाले उस जज्बे को
जो तुम्हें परवाह नहीं करने देता अपनी जान की भी
उस मां को जिसकी गोद सूनी छोड़ तुम जुट जाते हो जंग में
उस पिता को जो
तुम्हारे पांव छूने के बदले करता है सैल्यूट- चुपके से!

2 टिप्‍पणियां:

Arvind Mishra ने कहा…

यह समय है कश्मीरी आतंकी ट्रेनिंग कैम्पों पर बिना समय गवाए पूरी शक्ति के साथ सैन्य कार्यवाही का ! एक मुक्तिवाहनी सेना के हस्तक्षेप की !

Monika ने कहा…

“प्रेरणा शहीदों से हम अगर नहीं लेंगे
आजादी ढलती हुई साँझ बन जाएगी
यदि वीरों की पूजा हम नहीं करेंगे
सच मानो वीरता बाँझ बन जाएगी “
देश के लिए शहीद होने वालों को मेरा नमन

मोनिका दुबे (भट्ट)