गुरुवार, फ़रवरी 04, 2010

एक बयान बॉलीवुड के खिलाफ


देश से मुंबई को अलग करने की बात कर रहा है ठाकरे कुनबा...
शाहरुख खान को पाकिस्तान भेजने की बात कर रहा है ठाकरे परिवार...
शाहरुख का समर्थन करने वालों को धमका रहे हैं ठाकरे के गुण्डे
फिर भी, चुप है बॉलीवुड. आखिर क्यों? 

ब्लॉग और ट्विटर पर कुछ टिप्पणियों को छोड़ दें, तो बॉलीवुड ठाकरे की तमाम गुंडागर्दी के बाद भी पूरी तरह नहीं जागा ज्यादातर की जुबान अब भी सिली हुई है, जिनके बोलने से फर्क पड़ता, आखिर क्यों...
ठाकरे से क्यों डरता है बॉलीवुड?
ठाकरे के दर पर क्यों झुकता है बॉलीवुड?
ठाकरे के आगे कमजोर क्यों है बॉलीवुड?


वजह चाहे जो हो, बॉलीवुड की इसी कमजोरी का फायदा उठाता रहा है ठाकरे कुनबा.मातोश्री में बैठकर बॉलीवुड के लिए फतवे जारी करना बाल ठाकरे का कोई नया शगल नहीं. अब तो ऐसा करने के लिए एक और ठाकरे पैदा हो गया, जो अपने चाचा की तर्ज पर ब़ॉलीवुड को डराता है, धमकाता है, अपनी बात मनवाता है, और यहां तक कि माफी भी मंगवाता है  

राज ठाकरे से माफी मांग कर करण जौहर नो तो हद कर दी थी. मामला था उनकी फिल्म वेक अप सिड में मुंबई की जगह बंबई शब्द के इस्तेमाल का, जिस पर भड़क गए राज ठाकरे. इस बयान पर पूरा देश, पूरी मीडिया करन जौहर के साथ था, लेकिन  करण को ज्यादा परवाह थी राज ठाकर के गुस्से की...और वो पहुंच गए राज ठाकरे से माफी मांगने...
 
ये वही करण जौहर है, जिनके प्रोडक्शन की फिल्म माइ नेम इज खान ठाकरे कुनबे के गुस्से का खामियाजा भुगत रही है, लेकिन करण के मुंह से बोल तक नहीं फुट रहे. शाहरुख तो लाख बवाल मचने के बाद भी अपने बयान पर डटे रहे, लेकिन लगता है करण जौहर की हिम्मत एक बयान भर की भी नहीं
 
लेकिन बात सिर्फ करन जौहर या फिर शाहरुख की नहीं, मसला देशहित का है, जिस पर बॉलीवुड फिल्में तो बड़ी बड़ी बनाता है, बातें भी बड़ी बड़ी करता है, लेकिन ठाकरे की गुंडागर्दी के  सामने नतमस्तक है, वो भी तब, जब इस गुंडागर्दी मार सीधे फिल्म इंडस्ट्री पर पड़ रही है.

दूसरों की कौन कहे, मिलेनियम स्टार कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन परिवार समेत मातोश्री में मत्था टेकने को तैयार हैं. बाल ठाकरे ने अमिताभ की हालिया रिलीज फिल्म रण की तारीफ क्या कर दी, बिग बी ठाकरे के लिए रण का स्पेशल शो आयोजित करने की तैयारी में हैं. ठीक उसी तरह जैसे पा को गुजरात में टैक्स फ्री करने के प्रस्ताव पर दंगे से दागदार गुजरात के ब्रैंड अंब्सेडर बनने के लिए तैयार हो गए बिग बी. अमिताभ की पत्नी भी बाल ठाकरे की मुरीद हैं. राज ठाकरे ने जब बच्चन परिवार का जीना मुहाल कर दिया, तब जया ने कहा था- मैं तो सिर्फ एक ठाकरे को जानती हूं- वो है बाल ठाकरे.अब क्या बच्चन परिवार बताएगा, कि राज ठाकरे और बाल ठाकरे में क्या फर्क है? शाहरुख पर तो तो दोनों की एकमुश्त मार पड़ रही है?

ठाकरे का वार दिलीप कुमार जैसे स्टार भी झेल चुके हैं. दिलीप कुमार ने पाक के सर्वोच्च सम्मान निशान-ए-पाकिस्तान कबूल करने की बात क्या कही, ठाकरे को मौका मिल  गया अपनी राजनीति चमकाने का. दिलीप कुमार से पुरानी दोस्ती को भूलाकर बाल ठाकरे ने उन्हें देश का दुश्मन करार दे दिया था..
 
आज वही, शाहरुख हैं के साथ हो रहा है, कल कोई और भी हो सकता है...वो संजय दत्त भी हो सकते हैं, जो कई बार ठाकरे को आदर्श बता चुके हैं. वो सलमान खान भी हो सकते हैं, जो ठाकरे परिवार के करीबी कहे जाते हैं. लेकिन शाहरुख पर इतना कुछ गुजरने के बाद भी दोनों खुल कर समने नहीं आ रहे.
 
इस मामले पर आमिर ने अपनी राय जरूर जाहिर किया, आमिर ने शाहरुख के बयान को जायज ठहराया, लेकिन आमिर पर भी भड़क गए ठाकरे, तो क्या इसी अंजाम से डरते हैं दूसरे सितारे, ठाकरे का गुस्सा मोल लेना नहीं चाहता बॉलीवुड? आखिर क्यों, क्या मुंबई में ठाकरे का राज चलता है।

1 टिप्पणी:

बेनामी ने कहा…

अब तो "माय नेम इज खान के" पूरे भारतवर्ष में रिकार्ड तोड़ सफलता के आंकड़े ही जवाब देंगे विरोध करने वालो को. फिल्म सफल होने के बाद खान साहेब पूछेंगे इन से माय नेम इज खान, व्हाट इज योअर नेम . जय हो भैय्या .